डाकिया पर निबंध-Essay on Postman

डाकिया यानी POSTMAN 

डाकिया यानी कि पोस्टमैन एक जनसेवक है,  जिसका काम घर-घर जाकर लोगों को चिट्ठियां वितरित करना है.  गांव से लेकर शहर तक चाहे दुनिया कितनी भी बदल क्यों नहीं गई हो लेकिन चिट्ठियों का महत्व आज भी कम नहीं हुआ है .आज भी नौकरियों के कागजात पत्र-पत्रिकाओं का वितरण, मनी-ऑर्डर एवं अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज, डाक विभाग के द्वारा ही आम नागरिक तक हो पाता है.

डाकिया का काम

एक डाकिया का काम बहुत ही कठिन होता है. सबसे पहले वह अपने इलाके के लिए आने वाली चिट्ठियों को एकत्रित करता है, फिर उसे अपने बैग में लेकर घर घर जाकर वितरित करता है. मौसम चाहे सर्दी का हो या गर्मी का हर समय हर दिन उसे जाकर अपना काम करना होता है. ग्रामीण अंचल में  डाकियों को दुर्गम रास्तों से भी गुजरना पड़ता है जिसका असर कई बार उसके स्वास्थ्य पर भी पड़ता है.

डाकिया की वेशभूषा

हम सभी डाकिए को उस की वेशभूषा  और उसकी साइकिल की घंटी से पहचान लेते हैं. वह खाकी रंग की वर्दी पहनता है और उसके हाथ में चमड़े का एक थैला होता है, जिसमें  मनी ऑर्डर पार्सल और चिट्ठियों का पुलिंदा होता है जिसे वह अपने मोहल्ले के घर घर जाकर बांटता है

उत्तरदायित्व पूर्ण काम

इतना उत्तरदायित्व पूर्ण काम होने के पश्चात भी उसको वेतन कम मिलता है .उनके वेतन एवं भत्ते बहुत कम होते हैं. एक डाकिए के लिए छुट्टियों की संख्या भी निर्धारित होती हैं. जब पर्व त्योहारों में लोग छुट्टियों का आनंद उठाते रहते हैं, ऐन वक्त पर डाकिया पत्रों  का बंडल उठा कर लोगों को उनके अपनों से और महत्वपूर्ण खबरों से रुबरु करवाता रहता है.

ईमानदारी और सरलता

एक व्यक्ति का सफल डाकिया बनने के लिए उसमें जिम्मेदार इमानदार विनम्र और सरल होना आवश्यक शर्त है .इसके बिना वह अपने कर्तव्यों का निर्वाहन अच्छे से नहीं कर पाएगा, और तो और वह अपने समाज के लोगों को भी अनावश्यक परेशानी में डाल देगा.

स्थिति में हो सुधार

ऐसे कठिन परिश्रम करने वाले  मधुर व्यवहार वाले पोस्टमैन के लिए सरकार को पारिश्रमिक जरूर बढ़ाना चाहिए. जैसे दिन प्रतिदिन डाक विभाग की स्थिति खराब होती  जा रही है सरकार को प्रयास करना चाहिए कि यह विभाग बंद नहीं हो ताकि आने वाली पीढ़ियों को डाकिए सिर्फ कहानियों में सुनने या देखने को ना मिले.वे उनसे मिल भी सकें …

 

उम्मीद है आपको निबंध पसंद आया होगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और अधिक निबंध पढ़ने के लिए www.vicharkranti.comपर विजिट करतें रहें…

Related posts

Leave a Comment