श्री दुर्गा मैया की आरती

दुर्गा आरती,durga-maa-ki-aarti

नवरात्रि में या शक्ति उपासना के अन्य दिनों में पूजा के बाद आरती को आवश्यक माना गया है.प्रस्तुत है जगत                           कल्याणमूर्ति परमेश्वरी माँ दुर्गा की आरती.                          श्री दुर्गा आरती जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी ।  तुमको निशदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी । मांग सिंदूर विराजत टीको मृगमद को। उज्जवल से दो नैना चन्द्र बदन नीको ।। कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजे । रक्त पुष्प…

दीपावली

diwali,essay-dipawali-in-hindi

दीपावली दीपावली: हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक मास की अमावस  की रात को मनाया जाता है दीपावली. दीपावली के दिन दीपों से जगमगाता नगर और गांव तथा आसमान में इंद्रधनुषी  छटाएं बिखेरता फुलझड़ी एवं अन्य आतिशबाजी मानव मात्र के ह्रदय के हर्ष का प्रतीक है.. प्रकाश का पर्व दीपावली भारत के सबसे बड़े उत्सवों  में से एक है. दीपावली शब्द का यदि हम  संधि विच्छेद करें तो यह होता है दीप + अवली . दीप यानी कि दिया अथवा दीपक और अवली संस्कृत भाषा का स्त्रीलिंग शब्द है जिसका अर्थ…

आत्मविश्वास का जादू और Magic Johnson का सफल जीवन

आत्मविश्वास,magic-johnson-success-story-in-hindi,self-confidence-in-hindi

आत्मविश्वास (self confidence) के जादू के बारे में आज हम बात करने जा रहे हैं और वह शख्स जिसके माध्यम से हम यह प्रेरक तथ्य आपके सामने प्रस्तुत कर रहें हैं उनका नाम है मैजिक जॉनसन. हो सकता है आपने उनका नाम सुना हो  या ना भी सुना हो . लेकिन जैसा उनके नाम में पहले मैजिक है उनकी जिंदगी में भी मैजिक हुआ है . यह मैजिक है आत्मविश्वास का मैजिक(Magic of Self-confidence).बदतर  से भी कैसे बेहतर निकाल सकते हैं शायद इस सोच का नाम है मैजिक जॉनसन..   …

अंगुलिमाल और महात्मा बुद्ध की कहानी -story of angulimal and lord budhha in hindi

angulimal-and-lord-budhha-story-hindi

कहानी अंगुलिमाल प्रारम्भ: प्राचीन समय की बात है.एक बार महात्मा बुद्ध  उपदेश के क्रम में मगध प्रदेश की राजधानी श्रावस्ती के एक गांव में आए. उनके उपदेश का कार्यक्रम जब समाप्त हुआ तो उन्होंने लोगों को अत्यंत भयभीत देखा. लोग सूर्यास्त होते ही अपने अपने घरों की ओर तेजी से  जाने लगे थे. महात्मा बुद्ध ने इस भय का कारण जानना चाहा. उन्हें ज्ञात हुआ अंगुलिमाल नाम का कोई डाकू है,  जिसने हजार लोगों की हत्या करने की प्रतिज्ञा ले ली है. फलस्वरूप वह उस गांव के पास वाले जंगल…

शिक्षक दिवस पर संक्षिप्त एवं उत्कृष्ट निबंध-short and super essay on Teachers-Day

essay on teachers day hindi

लेख पूरा पढ़ने  के बाद आप को मिलने वाली है शिक्षक दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियाँ. जिसे आप शिक्षक दिवस पर आयोजित होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों में भाषण निबंध अथवा वाद-विवाद या किसी अन्य मंच पर प्रस्तुत कर सकते हैं… गुरु कौन है ? ‘गु ‘    यानि अंधकार .अंधकार यानि अज्ञानता… अज्ञानता हमें अपनी सीमाओं में बांधता है.हमारी क्षमताओं और संभावनाओं को सीमित करता है. हमें हमारे विराट व्यक्तित्व के साक्षी होने से वंचित करता है .इसी अज्ञानता रुपी अंधकार से मुक्त कर हमारे जीवन में ज्ञान का प्रकाश…

Swiggy शानदार कामयाबी का किस्सा-Swiggy the story of successful bussiness

आज जहां एक तरफ नौकरी और अच्छी नौकरी की चाहत में भारत का 95% हिस्सा सरकारी नौकरियों के पीछे भाग रहा है. तो कुछ युवा अपनी  मेहनत लगन और उद्यमिता  से कामयाबी  की नई इबारत लिख  रहे हैं. ऐसी ही असाधारण सफलता की साधारण कहानियों  की कड़ी में हम आज आपके लिए लेकर आए हैं सुप्रसिद्ध फूड डिलीवरी नेटवर्क Food Delivery Network-Swiggy के सफलता की कहानी…   अगर आप यह ब्लॉग पोस्ट अपने Mobile, Tablet या Computer पर पढ़ रहे हैं तो कोई कारण नहीं है यह मानने का कि आप…

उधार की लालटेन प्रेरक कहानी

vicharkranti, vicharkranti blog,vicharkranti motivational stories

मित्रों जापान में बहुत समय पहले बांस और कागज की बनी लालटेन जिसके भीतर मोमबत्ती होती थी बहुतायत उपयोग में लाई जाती थी | एक रात एक अंधा व्यक्ति अपने एक मित्र से मिलने गया जब वह घर लौटने लगा तो उसके दोस्त ने उसे एक लालटेन दी, ताकि उसे रास्ते में कोई परेशानी ना होने पाए| “अंधकार या प्रकाश सब मेरे लिए एक समान है मुझे लालटेन की आवश्यकता नहीं “-उस अंधे व्यक्ति ने कहा. तो इस पर उसके मित्र ने कहा मैं जानता हूं कि रास्ता देखने के…

हिंदी लघु कथा दहेज़

dahej short story in hindi by vicharkranti.com,vicharkranti,vicharkranti blog

“क्यों रो रहे हो, हुआ क्या है ?” इतना सुनते ही रसिकलाल  अपने मित्र रूपचंद के कंधों पर सिर रख कर और जोर-जोर से रोने लगा. थोड़ा सम्हलने पर कहने लगा : “रूपचंद अब और हो भी क्या सकता है? होने को बचा भी क्या है? ” तुम तो मेरे सुख-दुख के सहभागी हो. हम दोनों ने किस तरह दिन रात परिश्रम करके अपने घर परिवार को चलाया है, बच्चों को पढ़ाया लिखाया आगे बढ़ाया है.अपने जीवन  सुखों को तिलांजलि देकर बच्चों की सुविधाओं का ध्यान रखा है? ये कोई…

गाय पर निबंध-Essay on cow in hindi

gay par nibandh, cow essay ,vicharkranti.com

प्रस्तावना – गाय एक दुधारू पालतू  पशु है जिसे भारत में बहुत ही श्रद्धा और सन्मानपूर्वक देखा जाता है .हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार गाय के शरीर में 32 करोड़ देवताओं का निवास होता है. हमारे दैनिक जीवन में गाय की उपयोगिता के कारण ही गाय को श्रद्धा पूर्वक देखा जाता है और इसे मां की संज्ञा दी जाती है. हमारे देश में पहली रोटी गाय को खिलाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है. राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड की 2012 की रिपोर्ट के अनुसार भारत में करीब…

अम्ब विमल मति दे -माँ सरस्वती की वंदना

amab vimal mati de,saraswati vandana vicharkranti,vicharkranti,www.vicharkranti.com

हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी अम्ब विमल मति दे, अम्ब विमल मति दे… जग सिर मौर बनाएँ भारत वह बल विक्रम दे, अम्ब विमल मति दे… साहस शील ह्रदय में भर दे, जीवन त्याग तपोमय कर दे, संयम सत्य स्नेह का वर दे, स्वाभिमान भर दे… हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी, अम्ब विमल मति दे, अम्ब विमल मति दे … लव-कुश, ध्रुव प्रहलाद बने, हम मानवता का त्राश हरे हम, सीता सावित्री दुर्गा माँ फिर घर-घर भर दे… हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी, अम्ब विमल मति दे, अम्ब विमल मति…